logo
07 अगस्त 2020
07 अगस्त 2020

लोकसभा चुनाव 2019

चंद्राणी मुर्मू सबसे कम उम्र की सांसद

Posted on: Sat, 25, May 2019 11:41 PM (IST)
चंद्राणी मुर्मू सबसे कम उम्र की सांसद

नई दिल्लीः लोकसभा में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण को लेकर अक्सर बहस होती रहती है लेकिन आज तक संसद में यह बिल पास न हो पाना दुर्भाग्यपूर्ण है। बीजेपी और कांग्रेस दोनों ने इस बार अपने मैनिफेस्टो में कहा था कि अगर वो सत्ता में आती है तो महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत सीटें आरक्षित रखेगी।

इस बार एनडीए को बहुमत मिला है और बीजेपी के पास एक मौका है कि अपने वादे को निभाये। महिलाओं के लिए लोकसभा में 33 प्रतिशत सीट आरक्षण को लेकर सभी पार्टियां बात तो करती हैं लेकिन असलियत में इस आरक्षण को लेकर गंभीर नज़र नहीं आती हैं। बीजेपी और कांग्रेस अगर इस लोकसभा चुनाव 33 प्रतिशत महिला उम्मीदवारों को टिकट दे सकते थे लेकिन ऐसा नहीं हुआ। महिलाओं को टिकट देने के लिए कोई नियम नहीं है। यह किसी भी पार्टी की नीयत और निर्णय पर निर्भर करता है। बीजू जनता दल ने 33 प्रतिशत टिकट महिलाओं को दिया था। सात में पांच महिलाओं को विजय मिली।

17 वीं लोकसभा में सबसे ज्यादा महिलाएं संसद पहुंची हैं. इनमें से सात सांसद ओडिशा से भी हैं। जिनमें से 5 बीजू जनता दल से हैं और दो बीजेपी से। बीजेडी की इन सांसदों में अब तक की सबसे कम उम्र की आदिवासी महिला सांसद चंद्राणी मुर्मू भी शामिल हैं। मुर्मू की उम्र अभी केवल 25 साल है और वह इंजीनियर हैं। मुर्मू ने ओडिशा की केन्झार लोकसभा सीट से जीत दर्ज की है। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने चुनाव से पहले कहा था कि इस बार के लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी 33 प्रतिशत सीट महिलाओं को देगी। नवीन ने अपना वादा निभाया और 21 सीटों में से 7 सीटों पर महिला उम्मीदवारों को लड़ाया। इन सात में से पांच उम्मीदवारों ने जीत भी हासिल की।