logo
05 दिसंबर 2021
05 दिसंबर 2021

सेहत/प्राकृतिक चिकित्सा

दूसरों को भी बांटें खुशियां, धुयें से बचाव करते हुये जलायें पटाखें, बच्चों व अस्थमा रोगियों के घातक है धुंआ

Posted on: Thu, 04, Nov 2021 5:27 PM (IST)
दूसरों को भी बांटें खुशियां, धुयें से बचाव करते हुये जलायें पटाखें, बच्चों व अस्थमा रोगियों के घातक है धुंआ

बस्ती, उ.प्र.। दिवाली खुशियों का त्योहार है। यह खर्चीला भी है। सक्षम व्यक्तिओं और परिवारों को फिजूलखर्ची पर नियंत्रण करना चाहिये। संभव हो तो अपने हिस्से की खुशियां उन व्यक्तियों या परिवारों में बांटना चाहिये जो त्योहारों पर भी उदास रहते हैं, वे सक्षम लोगों के घर मिट्टी के पुराने दिये और उनके बच्चों द्वारा जलाये पटाखों के अवशेष बड़े उल्लास से बटोरते हैं।

ऐसे में आपकी वजह से यदि किसी एक परिवार में भी खुशी आ सकती है तो बड़ा पुनीत कार्य कुछ नही हो सकता। यह बातें बस्ती के जिला अस्पताल के आयुष चिकित्साधिकारी डा. वी.के. वर्मा ने कही। उन्होने आम जनमानस से अपील करते हुये कहा कि दिवाली मनाइए लेकिन अपनी सेहत का ख्याल रखते हुए। दीवाली पर लोग बड़े पैमाने पर पटाखे जलाते हैं जो सेहत के लिए हानिकारक है, पटाखे के धुएं से बचकर रहें ताकि यह धुआं आप के फेफड़े तक न पहुंचने पाए। यह फेफड़ों के लिये घातक सिद्ध हो सकता है। उन्होंने बताया कि आतिशबाजी का प्रदूषण आंखों, नाक और गले के अलावा फेफड़ों को भी प्रभावित करता है। प्रदूषण से सांस और एलर्जी की समस्या होती है। अस्थमा के मरीजों व बच्चों को पटाखों से दूर रखें। यदि आतिशबाजी करना ही है धुएं से बचाव करते हुए पटाखे जलाएं। विशेष परिस्थिति में अस्पतालों की सेवायें लें।


ब्रेकिंग न्यूज
UTTAR PRADESH - Lucknow: यूपी में नौकरी मांगोगे तो लाठियां मिलेंगी