logo
14 अप्रैल 2021
14 अप्रैल 2021

सेहत/प्राकृतिक चिकित्सा

कैसे फैलता है कोरोना, कैसे करेंगे बचाव, जानिये डा. वी.के. वर्मा से

Posted on: Mon, 05, Apr 2021 11:20 PM (IST)
कैसे फैलता है कोरोना, कैसे करेंगे बचाव, जानिये डा. वी.के. वर्मा से

बस्तीः नाक, मुंह और आंखों को बार बार छूने से संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। इससे बचने के लिये हाथों को बार बार कम से कम 20 सेकण्ड तक साबुन से धोना चाहिये। नाक, मुंह और आंखों के जरिये कोरोना वायरस एक स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में प्रवेश करके उसे बीमार बना सकता है। सावधानी ही बचाव का सबसे बेहतर तरीका है।

कैसे फैलता है संमण

बस्ती के जिला अस्पताल में तैनात आयुष चिकित्साधिकारी डा. वी.के. वर्मा कहते हैं कि जब आप किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने के बाद अपने वायरस लगे हाथों से अपने मुंह, नाक और आंखों को छूते हैं तो निश्चित रूप से आप भी संक्रमित हो सकते हैं। आंसुओं के जरिए भी कोरोना वायरस एक संक्रमित व्यक्ति के शरीर से स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में प्रवेश कर सकता है। कोरोना वायरस जिस तरह नाक और मुंह के जरिए हमारे शरीर में प्रवेश करता है, उसी तरह यह हवा में मौजूद ड्रॉपलेट्स (बूदों) के माध्यम से हमारे श्वसनतंत्र में पहुंच जाता है।

इसके बाद कोरोना वायरस शरीर में तेजी से अपने जैसे अनेक वायरस बनाना शुरू कर देता है। जब शरीर में कोरोना वायरस की संख्या बढ़ जाती है तो वह एक-एक करके हमारे शरीर के सभी अंगों को अपनी चपेट में ले लेता है और स्थिति नाजुक हो जाती है। आयुष चिकित्साधिकारी डा. वर्मा ने कहा सावधानी हमे कोरोना से बचा सकती है, इसके साथ ही हम सभी को अपनी जिम्मेदारी समझते हुये वैक्सीन जरूर लगवानी चाहिये। सिर्फ अपने को नही उन्हे भी तो सुरक्षित रखना हमारी जिम्मेदारी है जो रोजाना हमारे संपर्क में आते हैं।

अगर आप किसी ग्रॉसरी स्टोर में जाते हैं जिसके मालिक को कोरोना का संक्रमण हो चुका है. तो आपको भी कोरोना का संक्रमण हो सकता है। डा. वर्मा ने बताया कि उसके द्वारा दिए गए पैसे रखने या आपके द्वारा दिए गए कार्ड को स्वैप करने के बाद लौटाने की वजह से भी कोराना हो सकता है। अगर कोरोना से संक्रमित कोई व्यक्ति खांसता या छींकता है तो उसके मुंह या नाक से कुछ बूंदें हवा में उड़ती हैं, इनसे कोरोना का संक्रमण हो सकता है।

वायरस इन बूंदों की मदद से दूसरे व्यक्ति के शरीर में प्रवेश कर सकता है। दरवाजों की हैंडल, टच स्क्रीन, किताबों व संक्रमित खाद्य पदार्थों के जरिये भी कोरोना वायरस एक दूसरे व्यक्ति में प्रवेश कर सकता है। आप कोरोना संक्रमित व्यक्ति की पहचान भी नही कर सकते। कोविड 19 की पहचान लैब में जांच के बाद ही की जा सकती है। इसलिये आप सावधानी बरतिये, अपनी रो्रग प्रतिरोधक क्षमता बनाये रखिये और घर से बाहर निकलने या भीड़भाड़ में उचित दूरी, मास्क का ध्यान रखिये। डा. वर्मा ने कहा होमियोपैथी में संक्रमण से बचाव का बेहतर उपाय है। आर्सेनिक एल्बम 30 लगातार 3 दिन तक लेने से संक्रमण का खतरा कम हो जाता है।