logo
13 जून 2021
13 जून 2021

Uttar pradesh

लिखित आश्वासन के बाद शुरू हुआ बांध व रिंगबांध का एक साथ निर्माण

Posted on: Thu, 10, Jun 2021 6:54 PM (IST)
लिखित आश्वासन के बाद शुरू हुआ बांध व रिंगबांध का एक साथ निर्माण

हर्रैया, बस्तीः अपूर्ण लालपुर विक्रमजोत बांध निर्माण हेतु दशको से चला रहा गतिरोध गुरुवार को बांध के सापेक्ष रिंगबांध के निर्माण कराने, भूमिहीन हो चुके ग्रामीणों को भूमि व आवास उपलब्ध कराने, गांव में आने वाली सडक को ऊंचा कराने, बाढ उपरांत घाघरा तट पर बसे अन्य गांवों में आवश्यक ठोकर, स्पर व रिंगबांध बनाने के साथ साथ जमीन का सर्किल रेट बढाने हेतु शीघ्र अपर जिलाधिकारी के साथ वार्ता व लिखित आश्वासन पर समाप्त हो गया।

किसानों की सहमति से बांध व रिंगबांध का निर्माण शुरू हो गया। गौरतलब है कि वर्ष 2014 से लगातार ग्रामीणों के साथ समाजसेवी चन्द्रमणि पाण्डेय सुदामा बांध व ठोकर निर्माण कर कल्याणपुर, संदलपुर, भरथापुर, बाघानाला, गौरियानरन, सहजौरा पाठक को सुरक्षित करने हेतु संघर्ष कर रहे थे। श्री पाण्डेय ने कई बार धरना प्रदर्शन कर ज्ञापन देने के साथ साथ जिलाधिकारी कार्यालय व सांसद आवास का घेराव करने हजारों महिलाओं के साथ थाली लेकर भोजन हडताल भी कर चुके थे। यहां तक कि 12 जुलाई 2018 को उफनाती घाघरा में उन्होंने छलांग भी लगाया था। कई बार जनपद आगमन पर सूबे के मुखिया से मिलने के क्रम में हिरासत में भी ले लिए गये थे।

वर्ष 2020 में कल्याणपुर की सुरक्षा हेतु कटर व ठोकर का भी निर्माण हुआ किन्तु बांध निर्माण न होने के चलते गांव की समस्या का सम्पूर्ण समाधान न हो सका। वर्ष 2020-21 में बांध निर्माण शुरू भी हुआ तो वर्तमान एलाइनमेंट के अनुसार उक्त गांव बांध व नदी के बीच आ गये जिसके चलते बांध निर्माण की लडाई लडने वाले ग्रामीण समाजसेवी के साथ बांध निर्माण रोकने को बाध्य हो गये। कई दौर की अधिकारियों के साथ चली। पूर्व में दिये अल्टीमेटम के क्रम में गुरुवार को श्री पाण्डेय निर्माणाधीन बांध पर ही हजारों ग्रामीणों के साथ धरने पर बैठ गये। निर्माण कार्य पूर्णतः बंद हो गया।

सूचना पर धरनास्थल पहुंचे चौकी प्रभारी विक्रमजोत को वापस लौटना पडा। इसके बाद तहसीलदार हर्रैया एवं अधिशाषी अभियंता बाढ खण्ड बस्ती धरनास्थल पहुंचे। घंटो चली वार्ता उपरांत गांव के सुरक्षा हेतु जनसहयोग से रिंगबांध का निर्माण शुरू कराने सहित सभी मांगों को पूर्ण कराने के लिखित आश्वासन के साथ साथ सर्किल रेट बढाने हेतु इसी सप्ताह बैठक करने को बाध्य हुए। जनहित के सापेक्ष प्रसासन के झुकने से दशकों से चला आ रहा गतिरोध समाप्त हो गया जिससे धरनास्थल उपस्थित दर्जनों गांवों के हजारों ग्रामीणों में खुशी की लहर दौड गई। ग्रामीणों ने गांव की सुरक्षा हेतु सफल लडाई हेतु श्री पाण्डेय के प्रति आभार व्यक्त किया।