• Subscribe Us

logo
28 फ़रवरी 2024
28 फ़रवरी 2024

विज्ञापन
मीडिया दस्तक में आप का स्वागत है।
Haryana

हरियाणा में 46.8 लाख स्मोकर, 28 हजार की सालाना मौत

Posted on: Thu, 02, Aug 2018 10:13 PM (IST)
हरियाणा में 46.8 लाख स्मोकर, 28 हजार की सालाना मौत

पंचकूलाः पुलिस कमीश्नर चारु बाली ने कहा है कि प्रांरभिक अवस्था में ही बच्चों को तंबाकू व अन्य धूम्रपान उत्पादों के सेवन से बचा लिया जाऐ तो वे शारीरिक व मानसिक रुप से स्वस्थ होंगे। हम सबको सामूहिक रुप से प्रयास करना चाहिए कि ऐसे उत्पादों का सार्वजनिक स्थल पर न हो व शिक्षण संस्थानों के आसपास इसकी बिक्री न हो। पुलिस कमीश्नर पुलिस सभागार में हरियाणा पुलिस, संबंध हैल्थ फाउंडेशन, गुडगांव व फोर्टिस फाउंडेशन द्वारा कोटपा पर आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

पुलिस कमीश्नर ने कहा कि तंबाकू उत्पादों में बढ़ते ग्लेमर के कारण बच्चे व युवा इसकी तरफ जल्दी आकर्षित हो जाते है। पंचकूला पुलिस की और से बच्चों को इस प्रकार के उत्पादों के सेवन से बचाने के लिए चलाये जा रहे अभियान में सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम 2003 (कोटपा) को भी शामिल किया गया है। इसके बारे में पुलिस अधिकारियों को कोटपा कानून के बारे में जागरुक किया जा रहा है, ताकि वे अपने इलाकों में इसका प्रभावी रुप से क्रियान्वयन कर सकें। उन्होने कहा खासतौर वर्तमान में युवा वर्ग को जो कि तंबाकू व अन्य धूम्रपान उत्पादों का उपयोग किसी न किसी रुप में करते है जो कि इनके विकास में भी बाधक है। नया शारीरिक व मानसिक रुप से बड़ा प्रभाव डालता है। इसलिए युवाओं को इससे दूर रहना चाहिए।

इसके लिए उन्होने समस्त पुलिस अधिकारियों से सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम 2003 (कोटपा) की गाइडलाइन का सभी पुलिस थानों में पालन करने को भी कहा गया है। उन्होने कहा कि वर्तमान में सबड़े बड़ा चैलेंज पेसिव स्मोकिंग है। पेसिव स्मोकिंग किस तरह से आपकी जिंदगी को प्रभावित करती है इस पर भी जानकारी दी। सभी को स्वस्थ वातावरण और स्वस्थ जीवन जीने का अधिकार है। इसलिए जो लोग सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान करतें है, उससे पर्यावरण दूषित होता है और जबकि नॉन स्मोकर को भी स्वच्छ हवा लेने का संवैधानिक अधिकार है, इसलिए हम सभी का मौलिक कर्तव्य है कि उनके अधिकारों का हनन नही हो।

इस अवसर पर संबंध हैल्थ फाउंडेशन के सीनियर प्रोजेक्ट मैनेजर डॉ.सोमिल रस्तोगी ने कहा कि हरियाणा प्रदेश में 23.6 फीसदी (46.8 लाख) लोग किसी न किसी रुप में तंबाकू उत्पादों का उपभोग करते है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में तंबाकू जनित रोगों से हर साल करीब 28 हजार लोगों की मौत हो जाती है। गंभीर चिंतन का विषय ये है कि इनमें से 10 फीसदी लोग वे हैं जो धूम्रपान नहीं करते हैं, लेकिन बीड़ी-सिगरेट पीने वालों के संपर्क में रहने के कारण रोगग्रस्त होकर मौत का शिकार हो जाते हैं।

हरियाणा में 46.8 लाख तंबाकू यूजर, 28 हजार की सालाना मौत

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट के मुताबिक हरियाणा प्रदेश में करीब 46.8 लाख लोग किसी न किसी रूप में तम्बाकू का उपयोग करते हैं। इनमें से करीब 39 लाख लोग धुमपान करते हैं। तम्बाकू जनित पदार्थों के उपयोग से कैंसर सहित विभिन्न तरह की बीमारियों से ग्रसित होने के कारण प्रदेश में सालाना अनुमानित 28 हजार लोगों की मौत हो जाती है। वहीं, लगभग 116 बच्चे रोजाना तम्बाकू पदार्थों का सेवन शुरु करते हैं।




ब्रेकिंग न्यूज
UTTAR PRADESH - Basti: प्रधानों को अमर बना रही मनरेगा योजना, मूकदर्शक बने हैं बखरा पाने वाले ट्रक से भिड़ी सवारियों से भरी सरकारी बस, एक यात्री की मौत सपा कार्यकर्ताओं ने गद्दा विधायकों का फूंका पुतला Lucknow: अंबेडकर की मूर्ति लगाने को लेकर विवाद, दलित युवक की गोली लगने से मौत सपा के 7 विधायकों ने की क्रास वोटिंग, भाजपा 8 व सपा की 2 सीटों पर हुई जीत