logo
20 सितम्बर 2021
20 सितम्बर 2021

कृषि/बागवानी

गोष्ठी में बताये गये देसी गाय पालने के फायदे

Posted on: Sun, 04, Jul 2021 11:29 PM (IST)
गोष्ठी में बताये गये देसी गाय पालने के फायदे

हर्रैया, बस्तीः दुबौलिया विकास खण्ड के धर्मूपुर गांव में भूमि सुपोषण एवं संरक्षण राष्ट्रीय जनअभियान के तहत भूमि सुपोषण एवं देशी गाय पालन विषय पर गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी की अध्यक्षता सह प्रमुख डॉ. विनोद कुमार शुक्ल ने किया। गोष्ठी को संबोधित करते श्री शुक्ल ने कहा कि मारे जीवन के लिए ऑक्सीजन, जल और अन्न नितान्त आवश्यक है।

अन्न मे धरती से प्राप्त होता है। देशी गाय का गोबर एवं गोमूत्र से तैयार केचुआ खाद से भूमि का सुपोषण किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि रासयनिक खाद एवं कीटनाशकों के प्रयोग से भूमि की उत्पादकता नष्ट हो रही है। कैंसर, रक्तचाप, किड़नी, लीवर, मस्तिष्क, हृदय आदि रोगों में वृद्धि हो रही है। सम्पूर्ण राष्ट्र में जैविक खेती को बढावा देने के लिए एक जुलाई से 15 जुलाई तक भूमि सुपोषण विषय पर गोष्ठी आयोजित की जा रही है।

भारती शुक्ला ने कहा कि धरती माता का शोषण नही देशी गाय के गोबर और गोमूत्र से सुपोषण की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि केचुआ खाद से भूमि सुपोषण के साथ किसान आत्मनिर्भर एवं समृद्धिशाली बनेगा। जैविक खेती से मारा गांव स्वस्थ्य एवं सुखी होगा। कार्यक्रम के अन्त में पर्यावरण की स्वच्छता के लिए वृक्षारोपण किया गया। पारसनाथ मिश्र द्वारा अतिथियों के प्रति आभार ज्ञापित किया गया। इस मौके पर रितेश पाण्डेय, विनीता पाण्डेय, मंजू मिश्र, इन्द्रपाल सिंह, राजाराम, गंगा प्रसाद, सरयू प्रसाद सहित तमाम लोग मौजूद रहे।