logo
21 अक्टूबर 2020
21 अक्टूबर 2020

समाचार > संपादकीय

खराब रास्तों का दंश झेल रही जनता, नेता अफसर सब मौन

Posted on: Tue, 18, Aug 2020 10:32 AM (IST)
खराब रास्तों का दंश झेल रही जनता, नेता अफसर सब मौन

बस्तीः प्रशासनिक उदासीनता और जनप्रतिनिधियों की संवेदनहीनता के चलते जनपदवासियों को खराब रास्तों का दंश झेलना पड़ रहा है। ब्लाक रोड, मालवीय रोड, पचपेड़िया रोड सहित अनगिनत सड़कें पर जिस पर यात्रा करना जोखिम भरा है। महीनों और वर्षों से यह समस्या बनी हुई है। इनमे कई सड़के ऐसी हैं जिनकी मियाद पूरी नही हुई और गड्ढों में तब्दील हो गयीं। अनुरक्षण की जिम्मेदारी से भी ठेकेदार मुंह छिपा रहे हैं। नगरपालिका के ईओ की फोन न उठाने की आदत है, चेयरमैन प्रतिनिधि पुष्कर मिश्र की कोरोना के चलते हुई असामयिक मौत के बाद तो ऐसे लगता है जैसे नगरपालिका लावारिस सी हो गई हो।

शासन प्रशासन का रवैया ऐसा है कि जनता जब अपने हक के लिये आवाज उठाती है तो उस पर मुकदमे लाद दिये जाते हैं, पुलिस भेजकर अपमानित कराया जाता है। लोकतंत्र के लिये यह बेहद खतरनाक स्थिति है। ऐसी प्रवृत्ति ज्यादा दिनों तक बनी रहे तो जनता धीरे धीरे गुलाम हो जाती है और शासक निरंकुश। अगर हम इस रास्ते पर चल रहे हैं तो निःसंदेह एक भयावह भविष्य की ओर आगे बढ़ रहे हैं। यदि जिम्मेदारों को जरा भी जनता की फिक्र है तो उन्हे तुरन्त समस्याओं को सज्ञान लेना चाहिये या फिर झूठे विकास के दावों से जनता को गुमराह करना बंद कर देना चाहिये।