logo
14 अप्रैल 2021
14 अप्रैल 2021

समाचार > संपादकीय

खुब फलफूल रहा है अवैध शराब और गांजे का धंधा

Posted on: Sat, 27, Feb 2021 10:59 PM (IST)
खुब फलफूल रहा है अवैध शराब और गांजे का धंधा

बस्ती जनपद में गांजे की खरीद फरोख्त धड़ल्ले से हो रही है। मजे की बात ये है कि पुलिस थानों के इर्द गिर्द भी गांजे की बिक्री होती है। कारोबारी दबी जुबान से कहतें हैं कि गांजे और शराब के अवैध कारोबार पुलिस की ऊपरी आमदनी का हिस्सा हैं। इनके कारोबारियों से पुलिस को मोटी रकम मिलती है।

हालांकि पुलिस अपना दामन साफ रखने के लिये रोज गांजे के अवैध कारोबार में किसी न किसी किसी का चालान कर उसे जेल भेजती है लेकिन बड़े कारोबारी मौज मार रहे हैं। वे माहवार लाखों की रकम जुटा रहे हैं लेकिन पुलिस की पकड़ से दूर हैं। बताया तो ये भी जाता है कि उनके संबध पुलिस से अच्छे हैं। फर्क बस इतना है कि 100 या 200 ग्राम गांजे के साथ पकड़ा जाने वाला पुलिस की नजर में तस्कर है और उनसे ये काम कराने वाला कारोबारी। शायद यही कारण है कि अवैध गांजे का कारोबार फल फूल रहा है।

यही हाल शराब का है। कच्ची और जहरीली शराब से सरकार को लाखों के राजस्व का चूना लगता है। इसमें भी आबकरी और पुलिस महकमा रोज लहन नष्ट करता है, शराब बनाने के उपकरण जब्त किये जाते हैं, लेकिन कारोबारी बमुश्किल ही हाथ लगते हैं। सबकुछ अण्डरस्टुड रहता है। टीम पहुंचती है इससे पहले कारोबारी मौका छोड़ देते हैं। चोर पुलिस का ये खेल वर्षों से चलता आ रहा है। पुलिस चाह ले तो महीने भर के अंदर शराब और गांजे का कारोबार एकदम खत्म हो सकता है लेकिन इसके लिये नेटवर्क मजबूत करके निर्णायक कार्यवाही करनी होगी और दिखावा बंद करना होगा।